दुनिया का एक ऐसा अनोखा मन्दिर , जो हवा में झूलता है



Get Mobile App For Latest News In Mobile

वैसे तो इस धरती पर जो मठ या मन्दिर बनाये जाते है उनका आधार शिला जमीन पर ही होता है लेकिन चीन के शानसी क्षेत्र में एक मंदिर ऐसा भी है जो सीधी खड़ी पहाड़ी पर निर्मित है और दूर से देखने पर लगता है की मानो वह मंदिर हवा में झूल रहा हो , इसलिए इस मंदिर का नाम भी हवा में खड़ा मंदिर के नाम से जाना जाता है

shutterstock_

इस मंदिर को चीन में शुआन खोंग स और अंग्रेजी में हैंगिग टेम्पल कहा जाता है इस मंदिर का निर्माण आज से 15 सौ वर्ष पहले हुआ था यह चीन में सुरक्षित एकमात्र बौद्ध ,ताओ और कन्फ्यूशियस धर्मो की मिश्रित शैली पर बना विचित्र मंदिर है ,यह मन्दिर मुख्य ऐतहासिक और पर्यटकों में प्रसिद्ध है

दूर से देखने पर बहू मंजिला मंदिर का तल्लाधार दस से अधिक पतली लम्बी लकडियो पर खड़ा है ऐसा लगता है कि मानो मंदिर अभी गिर जायेगा यह काफी भयभीत करने वाला नजारा होता है इस मंदिर में छोटे बड़े मिलाकर 40 से अधिक भवन और मंडप है

  बड़ा खुलासा : आखिर क्यों ? राहुल गाँधी हर साल जाते है विदेश

article

मंदिर के चारो तरफ की पहाड़ियो की चोटियाँ इसको तेज धुप से भी सुरक्षा करती है कहा जाता है की गर्मियों में महज तीन घंटे तक ही सूरज की रोशनी मंदिर पर पडती है इसी वजह से लकड़ी का यह मंदिर 15 सौ साल पुराना होने के बावजूद आज भी सुरक्षित खड़ा है

tem

इस मंदिर को बनाने के पीछे दो राज है ,पहला यह की पहाड़ी घाटी यातायात का एक प्रमुख मार्ग था वहां से जब बौद्ध भिक्षुक गुजरे तो वो मंदिर में भगवान की आराधना कर सके आयर  दूसरा राज यह है कि पहाड़ी क्षेत्र में अक्सर बाढ़ का खतरा होता है वहां के लोग मानते है कि ड्रेगन ही बाढ़ का प्रकोप मचाता है इस लिए उसको वश में करने के लिए यह मंदिर पहाड़ी पर बनाया गया

ShareShare on FacebookShare on Google+Tweet about this on TwitterShare on LinkedInPrint this pageShare on Tumblr

Get Mobile App For Sarkari Naukri